शिक्षा निदेशालय का बाबू रिश्वत लेते गिरफ्तार

drru

इस शिकायत में आरोप लगाया गया था कि 19 जनवरी 2018 से 31 अक्टूबर 2018 तक वह निलंबित रहा है। उसे 30000 रुपये घूस लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा है। भुक्तभोगी की शिकायत पर विजिलेंस ने काफी समय से उसपर निगाह रखी हुई थी। प्रयागराज में शिक्षा निदेशालय का एक बाबू घूस लेते गिरफ्तार किया गया है। विजिलेंस की टीम ने सिविल लाइंस में  आरोपी बाबू पर वेतन का बकाया भुगतान करने में हीलाहवाली करने व वेतन जारी करने की एवज में घूस की मांग करने का आरोप था।

बकाया वेतन भुगतान के बदले मांग रहा था रिश्वत

इस आवेदन के बाद वेतन रिलीज करने की एवज में प्रधान सहायक अनिल ने 30000 बतौर रिश्वत मांगी। शिक्षक पैसे देने में नाकाम रहा तो उसने हीलाहवाली करना शुरू कर दिया। आरोपी अनिल कुमार शिक्षा निदेशालय के माध्यमिक शिक्षा विभाग में बतौर प्रधान सहायक तैनात है। उसके खिलाफ कुछ महीनों पहले बकाया वेतन भुगतान व अन्य कार्यों के लिए रिश्वत की मांग करने की शिकायत मिली थी। मिर्जापुर के कछआ स्थित गांधी विद्यालय इंटर कॉलेज की एक शिक्षक की ओर से विजिलेंस से आरोपी अनिल कुमार की शिकायत की गई थी।  बाद में उसे सेवा पर बहाल कर दिया गया। इसके बाद शिक्षक ने निलंबन अवधि के वेतन के भुगतान के लिए निदेशालय में आवेदन दिया। 


कई महीने तक उसे टहलाता रहा। इससे परेशान होकर पीड़ित शिक्षक ने विजिलेंस से शिकायत की। विजिलेंस ने जब इस शिकायत पर जांच करना शुरू किया तो निदेशालय में पता चला कि उसकी आम शोहरत ठीक नहीं है। उसकी ढेरों शिकायतें लंबित हैं। जांच में शिकायत सही मिलने पर विजिलेंस ने गुरुवार को जाल बिछाया। अपराहन करीब 3:00 बजे भुक्तभोगी के माध्यम से आरोपी को शिक्षा निदेशालय के पास ही फोन कर बुलाया गया। पीड़ित शिक्षक ने जैसे ही उसे 30 हजार रुपये ऑफर किए पहले से मौजूद विजिलेंस की टीम ने उसे रंगे हाथ दबोच लिया। इसके बाद सतर्कता अधिष्ठान प्रयागराज सेक्टर में मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया।


टीम ने कहा है कि सरकारी अधिकारी या कर्मचारी रिश्वत मांगता है विजिलेंस अफसरों ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान में सहयोग की अपील की है।  तो उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराएं। पीड़ित व्यक्ति की ओर से 9454404859, 9454401866 पर शिकायत दर्ज करा सकती है।

Post a Comment

From around the web